संदेश

March, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मैं नास्तिक क्यों हूँ?

चित्र
भगत सिंह 

भगत सिंह ने जेल में रहते हुए यह लेख लिखा था जो 27 सितम्बर 1931 को लाहौर के अखबार 'द पीपल' में प्रकाशित हुआ. भगत सिंह का यह लेख बेहद चर्चित रहा है जिसमें वे ईश्वर की उपस्थिति को लेकर तार्किक ढंग से सवाल खड़े करते हैं. भगत सिंह की नास्तिकता और उनकी ​क्रांतिकारिता का चरम उद्देश्य थी मानवता. जो भी बात मानवता की राह में रोड़ा बनकर खड़ी हुई, भगत सिंह उसे खारिज कर देते थे.  


एक नया प्रश्न उठ खड़ा हुआ है। क्या मैं किसी अहंकार के कारण सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी तथा सर्वज्ञानी ईश्वर के अस्तित्व पर विश्वास नहीं करता हूँ? मेरे कुछ दोस्त– शायद ऐसा कहकर मैं उन पर बहुत अधिकार नहीं जमा रहा हूँ– मेरे साथ अपने थोड़े से सम्पर्क में इस निष्कर्ष पर पहुँचने के लिये उत्सुक हैं कि मैं ईश्वर के अस्तित्व को नकार कर कुछ ज़रूरत से ज़्यादा आगे जा रहा हूँ और मेरे घमण्ड ने कुछ हद तक मुझे इस अविश्वास के लिये उकसाया है। मैं ऐसी कोई शेखी नहीं बघारता कि मैं मानवीय कमज़ोरियों से बहुत ऊपर हूँ। मैं एक मनुष्य हूँ, और इससे अधिक कुछ नहीं। कोई भी इससे अधिक होने का दावा नहीं कर सकता। यह कमज़ोरी मेरे अन्दर भी है। …

आचार्य रामपलट दास: जोगीरा सा रा रा रा

आचार्य रामपलट दास जी फागुन लगते ही फगुआ जाते हैं और लगभग पूरे फागुन कमाल करते हैं. होली नियराते ही इस बार भी वे फगुआ गए हैं और उनकी फेसबुक वॉल जोगीरा से भरी है. उनकी इन दो—दो पंक्तिओं की कविता में बहुत ताकतवर ढंग से तंज किया जाता है. कविता की यह ताकत बहुत विद्वतापूर्ण कविताओं में नदारद रहती है. उनकी वॉल से टीपकर यहां पर कुछ पंक्तियां आपसे साझा कर रहा हूं. 


कै रुपया में भइंस बिकाए, कै रुपया में गाय
कै रुपया थैली में लेके, बिका विधायक जाय जोगीरा सा रा रा रा
एक लाख में भैंस बिकाए, हज्जारों में गाय
पांच करोड़ी थैली खातिर, बिका विधायक जाय जोगीरा सा रा रा रा
भइंस बिकाई दानापुर में, बछिया गंगापार
देवभूमि में बिके विधायक, चित्त पड़ी सरकार जोगीरा सा रा रा रा
नारा सुनके जेल दिखावे , लेख लिखे पर रार
मौन सभा पर लाठी भाँजे, डरी हुई सरकार जोगीरा सा रा रा रा
कौन मिठाई चमचम चमके, कौन बिके बाज़ार
कौन मिठाई माछी भिनके , नाम केकर सरकार जोगीरा सा रा रा रा रा
संघ मिठाई चमचम चमके, राष्ट्र बिके बाज़ार
तर्क मिठाई माछी भिनके, हाफ़ पैन्ट सरकार जोगीरा सा रा रा रा रा
उचक उचक कर भौंचक देखें, पल्टू लम्बरदार
मोम के प…