सौदा

आज का सौदा बहुत अच्‍छा रहा
जिस घड़ी वह तौलने मुझको लगा
मैंने सब नजरें बचाकर 
आत्‍मा का एक टुकड़ा 
अनछुआ ही, पाक बिल्‍कुल 
झट उठाकर जेब के अंदर किया
दाम भी लाया खरा
खुद को बचा लाया, अहा...!
 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए