अगर तेरे कदमो में थोड़ी जगह मिले 
तो हमको जीने की कोई वजह मिले 

अँधियारा है  जीवन,  ऐसे आ जाओ 
मिले रात उजियारी, हंसती सुबह मिले 

जंग कठिन है हार-हार मैं जाता हूँ 
तुम आ जाओ साथ अगर तो फतह मिले 

इस जीवन का अबतक कोई थाह नहीं 
आओ ढूंढें, कहीं तो कोई सतह मिले 

आकर मेरे सीने में छुप जाओ तुम 
कभी नहीं घबराओ ऐसी जगह मिले 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए