भोर पहर

भोर पहर 
उतरती है धूप
गमले में लहराती 
किलकती पत्तियों पर 
लगता है उतरा है जीवन 
किसी की रगों के भीतर 
और खिल-खिल गया है 
पंखुड़ियों पर

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए