सोमवार, 18 अप्रैल 2011

जहां हर तरफ खौफ है..

दो दिन पहले के अखबारों के मुताबिक दिल्ली में एक ही दिन में कुल मिलाकर हत्या और बलात्कार की आधा दर्जन खबरंे थीं। यह जानकर कि आज यह शहर आधा दर्जन हत्या और बलात्कार का गवाह बना, जब मैं घर से बाहर निकला तो इन्हीं सब बातों से दो चार हुआ। हर तरफ खौफ। हर तरफ डर। हर व्यक्ति सहमा हुआ। हर किसी की आंखों में एक भयानक जंगल, जहां वह अकेला भटक रहा है। मैं बस में चढ़ा ही था कि एक व्यक्ति चिल्लाया- बस रोको। दरवाजे बंद करो। कोई मेरा बटुआ मार ले गया। पूरे बस में अफरा-तफरी मच गई। लोग अपनी अपनी जगह से कहने लगे- सबकी तलाशी लो, देखो इन्हीं में से कोई होगा। सब चौकन्ने हो गए। सबके हाथ अपनी अपनी जेबों पर टिक गए।
उधर, इस अध्याय के समानांतर उसी बस में एक अध्याय और चल रहा था। एक लड़की बगल में खड़े लड़के से कह रही थी- या तो चुपचाप खड़े रहो या फिर बोलो मैं उतर जाऊं। तुम्हें खड़े होने के लिए मेरा ही सर चाहिए। वह दूसरी ओर मुंह कर चुपचाप आंसू बहाने लगी। किसी ने किसी को कुछ नहीं कहा। लड़का अपने साथी को देख-देख कर शैतानी मुस्कान बिखेरता रहा फिर अगले स्टॉप उतर गया।
करीब आधे घंटे बाद जब मैं ओखला मंडी के पास बस से उतरा, एक महिला सहकर्मी का फोन आया। उसका पर्स किसी ने दिन-दहाड़े छीन लिया था। वह परेशान थी, क्योंकि पर्स में एटीएम और पैन कार्ड समेत कई कीमती चीजें थीं। उसको सांत्वना देते हुए मैं ऑफिस में दाखिल हुआ तो देखा टेलीविजन पर लड़की को अगवा कर बलात्कार और हत्या करने की खबर ब्रेकिंग चल रही थी। यह कमोबेश हर दिन होता है। हर दिन इसी तरह भयावहता के बीच गुजरता है।
मेरे मकान मालिक को मुझपर शक है कि यह पत्रकारनुमा युवा आखिर रात को एक बजे क्यों आता है? आखिर यह भी तो आदमी है और कुछ गड़बड़ कर सकता है। मेरे बगल वाले मकान मालिक को अपनी 22 वर्षीय महिला किरायेदार पर शक है कि वह कहीं कुछ अजब-गजब कर बैठे। गली के हर व्यक्ति को हर व्यक्ति पर शक है। यह आसानी से देखा जा सकता है कि हर कोई अपने आसपास के आदमी से डरा हुआ है।
अब तक जितने शहरों में मैं घूूूमा हूं, उनमें दिल्ली एकमात्र ऐसा शहर है, जो बेहद खौफनाक है। यह देश की राजधानी है, और अपराधों की राजधानी भी। दिल्ली को  राजधानी बने हुए 100 साल पूरे हो रहे हैं और देश को आजाद हुए साठ साल, लेकिन अपने एक साल के अनुभव के आधार पर कह सकता हूं कि देश की राजधानी देश की सबसे असुरक्षित जगहों में से एक है।

कोई टिप्पणी नहीं: