बुधवार, 13 अप्रैल 2011

हर रात के सफ़र में
बस, एक चाँद रहा साथ
हर जीवन की उपलब्धि
हमेशा मौत आई हाथ 

कोई टिप्पणी नहीं: