यदि सुन्दर
कुछ हो सकता है
तो वह यह की
तुम्हें सोचना
और सोचना...सोचते रहना
भीतर भीतर टीसते रहना

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए