शनिवार, 19 मार्च 2011

यदि सुन्दर
कुछ हो सकता है
तो वह यह की
तुम्हें सोचना
और सोचना...सोचते रहना
भीतर भीतर टीसते रहना

कोई टिप्पणी नहीं: