कई दिनों से

कई दिनों से कानों ने
नहीं सुने तेरे सुर 
कई दिनों से रगों में 
नहीं उतरी तेरी आवाज़ 
कई दिनों से सांसों में
देखा नहीं तुम्हें
कई रोज़ हुए 
गूंजी नहीं तेरी हंसी 
कई रोज़ से महसूसा नहीं तुम्हे 
कि अब आ जाओ 
खिलखिलाते हुए 
दिले-वीरां कि उदासी हर लो 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए