गुरुवार, 27 जनवरी 2011


रात भर की 
अपार पीड़ा और  
आंसुओं के सैलाब के बाद 
अब सुबह 
महसूस रहा हूँ 
अपने मानव को 

मुझे मुझसे मिलाती है 
मेरे भीतर की टीस
बहुत प्रिय हैं मुझे 
मेरे आंसू 

2 टिप्‍पणियां:

समय ने कहा…

शुक्रिया।

हरीश सिंह ने कहा…

ब्लॉग की दुनिया में आपका स्वागत,
उत्तरप्रदेश ब्लोगेर असोसिएसन
{uttarpradeshblogerassociation.blogspot.com} ब्लोगेरो की एक बड़ी संस्था बन रही है. आप इसके प्रशंसक बनकर हमारा उत्साह वर्धन करें. ब्लॉग पर पहुँचाने के लिए यहाँ क्लीक करें. इस सामुदायिक चिट्ठे पर लेखक बनने के लिए अपना मेल आईडी इस पते पर भेंजे, indianbloger@gamil.com , इसके बाद आपको एक निमंत्रण मिलेगा और उसे स्वीकार करते ही आप इसके लेखक बन जायेंगे.


साथ ही पूर्वांचल प्रेस क्लब[ poorvanchalpressclub.blogspot.com] से जुड़े इसके समर्थक बने, और अपने क्षेत्र की मीडिया से सम्बंधित पोस्ट हमें editor.bhadohinews @gamil.com पर या editor.bhadohinews.harish @blogger.com भेंजे