कुछ अशआर-


टिका है लहरों पे मेरा वजूद 
बन जा पतवार मेरे कश्ती की 
तू खुदा है तो आ दीदार दे 
मुझे ख्वाहिश है बुतपरस्ती की 
____

अगर आपे में न रहे कोई
तो अपना ख्याल क्या रखे कोई 
दिल में जो दर्द का सैलाब उठे 
उसमे कैसे नहीं बहे कोई 
____

समझता है ज़बां धड़कन कि मेरी दूरियां हैं मगर इतनी नहीं हैं
बैठ के दिल में मेरे कह रहा है मेरा महबूब हम तेरे नहीं हैं
मेरी हर साँस से बावस्ता तुम तुम्हारी हर अदा से वाकिफ मैं
अगर पूछे कोई रिश्ता हमारा बता देना कि दोनों अजनबी हैं

______



न जाने कितने दिलों में कसक बची होगी
न जाने कितनी आरजू भी रह गयी होगी

न जाने किसकी खुलीं पलकें कि सुबह आई
न जाने किसकी हंसी नूर भर गयी होगी

--------

मैं खुद से बात करता हूँ खुद ही से डर भी जाता हूँ
रूठता हूँ कभी खुद से कभी खुद को मनाता हूँ
पिघल जायेगा इक दिन तू इसी उम्मीद से या रब
मैं तेरे नाम की माला उँगलियों पे फिराता हूँ

--------

किसी की साये से हमने जो मोहब्बत कर ली
तुम्ही कहो, गुनाह हो गया कहाँ मुझसे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए