मेरा होना उन्हें नहीं भाया
नहीं होना मुझे नहीं आया 
डूब कर मरने की तमन्ना थी
कोई कतरा मगर नहीं पाया 
मैंने इन्सान होना चाहा तो 
जीना मरना मुझे नहीं आया 
तेरी दुनिया है बहुत दूर की बात 
साथ रहता नहीं मेरा साया 
मेरे दिल में तू कहाँ रहता है 
मैनें ढूँढा बहुत, नहीं पाया 
मेरा महबूब इस जहाँ का नहीं 
तो खुदा मुझको यहाँ क्यों लाया 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिंदुस्तान किसानों का क़ब्रिस्तान क्यों बनता जा रहा है?

माँ के लिए